दिव्य शिवलिंग हाथो की अंगुली में स्थापित हो गया….. विवेक शुक्ल का अनुभव

सभी को राम राम
आज जब मैं गुरुवार के साथ सूक्ष्म रूप से भगवान केदारनाथ के अभिषेक के पश्चात जब शिवार्चन करने के लिए मंत्र जपते हुए बैठा तो कुछ ही पल में शिवलिंग से तरंग को प्रसारित हुए दिखाई दिया और कुछ ही देर में ध्यान से देखने पे शिवलिंग के कचरो तरफ से नमः शिवाय मंत्र को फिर से निकलते हुए दिखाई दिया और काफी देर तक बना रहा साधना के अंतिम क्षण में भगवान शिव माँ पार्वती के गुरुदेव का साक्षात शिवार्चन करते हुए दर्शन प्राप्त हुए मंत्र जप के और कुछ देर बाद में मेरे सामने एक दिव्य शिवलिंग अत्यंत तेज पुंज के साथ प्रकट हुआ और धीरे धीरे मेरे दोनों हांथो की हाँथेली पे आके स्थापित हो गया कुछ समय बाद शिवलिंग से एक दिव्य त्रिशूल प्रकट हुआ और में हृदय के बीच में आके स्थापित हो गया और जब आंखे खुली तो साधना पूरी हो चुकी थी
शिव गुरु सहित भगवान केदारनाथ सहित गुरुवार सहित शिवप्रिया दी सहित मैं सभी का कोटि कोटि धन्यवाद करना हूँ
राम राम