बाबा मुझे कुछ बोले….. जयश्री

गुरुजी आज केदारनाथ धाम पर नंदी महाराज का बैल स्वरुप दर्शन हुआ। दिव्य दीपक का दर्शन लिया।गर्भगृह मै एक शिवलिंग का दर्शन हुआ।मैं आपके पास आ गयी।मैं पूजा करने बैठी, तब से मुझे नींद आती थी।देर तक ऐसा चला।मंत्र चालू था।बाद में पूजा संम्पन्न की। शिवार्चन शुरू किया।बीच मे ।एक नदी में खूब सारे मछलियों को तैरते हुए देखा।फिर से शिवार्चन शुरू किया।बाबा को भोग लगाया।फिर एक साधु जी का दर्शन हुआ।फिर से एक नदी में साधू या ऋषि मुनी थे। बहुत बडी संख्या में स्नान कर रहे थे।सभी के गले मे रुद्राक्ष माला थी।बाद में एक शिवलिंग का दर्शन हुआ।उसके बाद मैं फिर से नदी के पास आयी।कोई एक व्यक्ति था या कोई गुरु स्वरूप थे,ओ पानी मे खडे थे।उसीके सिर्फ चरण दिखाई दिये, मैं भी उसके चरण के सामने थी।बाद में बाबा मुझे कूछ तो बोले,ओ पक्का मेरे समझ मे नही आया।फिर गुरुजी से प्रणाम किया।गुरुजी आपकी और शिवप्रिया दीदी के कृपा से मुझे 3 बार नदी मा काऔर जल देवता का दर्शन हुआ।और बाबा का ऋषियों का दर्शन हुआ