अप्सरा साधना जुलाई 2021 – 07 July, 2021

आहुति देते देते हम देवलोक में पहुंच गए देवी रम्भा में वहाँ की जगह मुझे दिखाई……… Manda Zore, Mumbai
Ram Ram Guruji🙏🏻🌹🙏🏻 06/07/21 Aaj ki sadhna me mantra jap shuru karne ke bad rambha apsaraji dikhe. Wo Muje ek कुटीया me le gaye. Ek divya tej wale Guru the. WO dhyanastha baithe the. Kuchh samay ke bad unhone aankhe kholi aur puchha kaise aana hua. Maine kaha shivji ki lila. Unhone muskurake 😊puchha kyun apke gurudev ki nahi. Maine unhe jawab me kaha han hamare gurudev ki bhi lila hai. Fir unhone hamare samne yagya kund sthapit kiya, samidha samne rakhi. Muje yagya karne k liye bithaya. WO mantra jap karne lage. ॐ क्लीं कृष्णाय नमः ki Jada ahutiya dilvae. Dono mantra ek sath chal rahe the Guruji. Asuvidha ho rahi thi ahuti dene ke samay. Samjh nahi aa raha tha. Rambha apsara ji k mantra ki bhi ahutiya di ja rahi thi mujse. Ahuti dete dete ham tino bhi kb aasman me devtalok me pahunche samjh nahi aaya. Aloukik aisa sthan tha. WO Maharshi antardhyan ho gaye. Rambhaji mujhe waha ki jagah dikhane le gaye ek sundar sarovar dikha. Mujhe waha snan k liye kaha. Snan vidhi k bad mujhe unhone apsara jaise kapde paridhan karvaye mai bhi unhi ki tarah bahot sundar dikh rahi thi. Fir unhone mujhe ek shant jagah le gaye. Unki urjaye bahot pyar bhari thi. Mujhe unki taraf akarshit kar rahi thi. Mera rom rom romanchit ho raha tha. Hm donone ek dusre ke sath bahot sundar samay bitaya. Guruji kal din bhar udasi thi. Pr unke sath rehne k bad kaha sari udasi gae samjh hi nahi aa raha hai. Aur itni khush ho gae hu. Man ki avastha hi change ho gae. Ek battakh jaisa yan aaya usme baithkar rambhaji ne mujhe pura bramhand dikhaya. Bahot sundar sundar jagah dikhae. Ramya manmhohak shant aisi jagah dikhae. Alvida kehne k samay unke aankho me aansu the… Guruji apka bahot bahot dhanyawad🙏🏻🌹🙏🏻 Rambhaji ka bahot bahot dhanyawad🙏🏻🌹🙏🏻 Shiv Sharanam🙏🏻🌹🙏🏻

मन्त्र जप चलते रहे, उर्धगामी उर्जायों की प्रवाह धीमी गति रहे …………. नटराज हाजं, मेघालय,
राम राम गुरुजी, रम्भा अप्सरा साधना की दिव्य अनुभूति ::: दिनांक:- 06/07/2021, सौन्दर्य के देवी रम्भा अप्सरा साधना आज आनन्द पूर्वक सम्पन्न हुआ है॥ मन्त्र जप चलते रहे, उर्धगामी उर्जायों की प्रवाह धीमी गति रहे, अनाहत चक्र पर स्पन्दन मन्द मन्द गति से चला ,बीच बीच में दाहिने हाथ की उपर ठंडी की एहसास हुआ, मन खुशी और आनन्द से उभर गया॥ गुरुजी के श्री चरणों में प्यार भरा नमस्कार हैं॥

देवी ने कहा मैं तुम्हारे साथ हूँ जब भी मुझे याद करके कोई इच्छा बताती हो वो मैं पूरी करती हूँ। ……….Manda Zore , Mumbai
Ram Ram Guruji🙏🏻🌹🙏🏻 05/07/21 Aaj sadhna me sukhad urjaye mehsus ho rahi thi. Nila samundar dikha. Bahot samay ke bad rambha ji aaye karib 1 ghante k bad. Unse mai agrah karne lagi ki aap pratyakshya rup me mere samne aaye. Unhone kaha han mai Aaungi. mai jid hi karne lagi. Tabhi unhone 2 ft pr awaj karke apne hone ka ehsas dilaya. Mai halkisi hi dari. Tab unhone kaha dekha abhibhi tum darti ho. Thoda samay lagega mai aaungi jarur. Mere jid ke karan mujhe batane lage mai tumhare sath hu. Tum jab bhi mujhe yad karke koi ichha batati ho wo puri karti hu. Chahe paise ka kam ho ya koi aur. Tumne mujhe jivan ke sukhi hone ka rahasya puchha tha. Mai har chij tumhare samne rakhati hu jise tum asani se samjh jati ho. Tumhe tumhare hone ko ehsas dilaya. Khud se pyar karna sikhaya. Tumne apne aap me bahot improvement ki hai. Han! ye bat to sach hai Guruji.. Aur wo chale gaye. Guruji aapne bhi hame 2-3 bar kaha tha ki apne aap ko importance do tb wo smjh nahi aaya. Aur kaha tha jo apne aapko mahtva dega use mai manunga. Kuchh aisa hi. Bate to samajh aa gae aapki pr apply kaise kare samajh nahi aaya. Aur is chij ki mujhme bahot kami thi. Jo aapne samjhi thi. Aur use batae bhi thi. Hamare liye kya jaruri hai. Ye bate aap hamse behtar janate ho. Guruji aap hame wo har ek gyan dete ho jo ki bahot saral aur satik hai. Pr shayad mai kabhi kabhi asamarth rahi unhe samjhane ke liye. Bahot bahot dhanyawad Guruji shiv Guruji se jodne ke liye, Rambha apsaraji ko jivan me lane ke liye.🙏🏻🌹🙏🏻
Bahot bahot dhanyawad Rambhaji 🙏🏻🌹🙏🏻 Shiv Sharanam🙏🏻🌹🙏🏻

रात को सोते समय समय अचानक मेरे दाहिने हाथ अपने आप ऊपर उठने लगा….. Pankaj Kumar Gupta from Naini, Allahabad.
Ram Ram Guruji 🙏🙏🙏 dtd.5-7-21. Raat 12 baje kay lagbhag sadhna shuru ki. Padrah minute mein hi pura badan dard karne laga. Kisi tarah adhleti awastha mein 1:30 baje tak jap kiya. Phir pata nahi kahan se shakti aa gai aur phir baith ker 2:30 baje tak jap kiya. Raat ko sote samay achank mera dahina haanth apne aap dhire dhire upar uthne laga aur phir kandhe ki seedh mein aaker palang per tik gaya. Mai bahut mushkil se apni ankhein khol paa raha tha. Phir mai so gaya. Apni kripa banaye rakhein Guruji. Koti koti naman.

लगा की कोई मेरे पैर में गुदगुदी कर रहा है……. Pankaj Kumar Gupta from Naini, Allahabad.
Ram Ram Guruji 🙏🙏🙏6-7-21. Raat ko neend lag gai thi . Phir raat 1:15 baje neend khuli toh jaldi se sadhna karne bhaga. Aaj sharir mein dard nahi tha. Aram se mantra jaap karta raha. Bich mein koi awaaz hui toh daar laga per Shiv Guruji ko yaad ker mantra jaap jari rakha. Raat 4:00 baje tak jap kiya. Phir bhor mein aisa laga ki koi mere paer kay taluvay mein gudgudi ker raha hain. Meri neend khul gai. Apna margdarshan aur kripa banaye rakhein Guruji. Aapko koti koti naman.

शरीर एकदम गरम हो गया और भारी ही गया आस पास किसी के होने का एहसास होता रहा ………….. अनुराधा ऋषिकेश
दिनांक 7 जुलाई 2021 छठे दिन का अनुभव राम राम गुरुजी आपकी और शिव।कृपा से साधना अच्छे से पूर्ण हुई जाओ शुरू होने के कुछ।देर बाद ही शरीर एकदम गरम हो गया और भारी ही गया आस पास किसी के होने का एहसास होता रहा शरीर पसीने पसीने हो रहा था आज थोड़ी घबराहट सी थी दो घंटे का पता नही चला जप पूर्ण होने के बाद देखा कटोरी में इलायची का।बीज निकला हुआ था कृपा बनाए रखे हैं पर गुरु वार 🙏🏼🙏🏼

झिलमिल से ड्रेस पहने रंभा देवी के दर्शन हुए आंखों को यकीन नही हो रहा देवी मेरे बेडरूम में रखे खूम रही थी और यह मंजर 10 से 15 मिनिट तक चलता रहा ……………… ANUPAM CHAKRABORTY. @JABALPUR,MP.
DATE 07/07/21🌹🌹🌹🌹🌹🌹 आज श्याम को तकरीबन 7:30 pm में पाठ कर रहा उसी वक्क्त हल्की झिलमिल से ड्रेस पहने रंभा देवी के दर्शन हुए आंखों को यकीन नही हो रहा देवी मेरे बेडरूम में रखे खूम रही थी और यह मंजर 10 से 15 मिनिट तक चलता रहा में बहुत खुली आंखों से अवाक ढेकता रहा न ही कोई सपना ना ही कोई इमेजिनेशन/भ्रम यह तो आचार्य से भरा दृश्य वह भी खुली आंखों से गुरुवार के आर्शीवाद बिना संभव नहीं था👣🙏🌹🌹 खैर आज साधना में बैठा मंत्र जप शुरू किया रोज की तरह पसीने लतपत था इलाइची मुंह में रखी मंत्र जाप चल रहा था होले से आवाज आई में आ गई हु और जोर जोर से पायल ,कंगन, चूड़ियों की आवाज यह इशारा कर रही, थी की देवी आ गई अपना पैर ले कर मेरे ऊपर रख दिया फिर मेरे बाजू को पकड़ लिया कहा थोड़ी देर बाद खाऊंगी इलायची फिर, यकायक मेरी गोदी में बैठ गई देवी ने कहा “में तेरे जिंदगी में प्यार सराबोर कर दूंगी रोम रोम में प्यार भर दूंगी मैंने वचन मांगे की हे देवयांगना आप मेरा प्रेम निवेदन स्वीकार करे मेरे इस जीवन में आ जाईए रूप, यौवन और प्यार से मेरा यह जीवन भर दीजिए, अतुल धन संपत्ति प्रधान करें देवी ने मेरे सिर पर हाथ रखकर आर्शीवाद दिया उन्होंने सात रहने का वचन दिया उमदा था यह अनुभव फिर, इलायची मांगी देवी ने ग्रहण किया और शांति से आसान मे बैठ गई और कहा पूजा के बाद भी में यही बैठी रुहूंगी तेरे आसान पर🌹🌹मैने फिर आज प्रत्यक्षीकरण का अनुरोध किया देवी ने कहा हो तो रहा आप के जीवन में प्रत्यक्षीकरण मैं आप के जीवन में आ गई हूं हर जगह दखल, रेड lips गोर वर्ण शरीर ऐसा रूप यौवन न देखा न सुना यह कहते हुए उन्होंने कान दाए में आकर चूमा गुद्गुली सी महसूस हो रही थी मानो की मैं उनके प्रेम मे दूब गया❤️❤️❤️❤️🌹🌹🌹🌹प्यार ही प्यार महसूस हो रहा था 🙏👣 शिवसरनाम🙏👣🌹🙏

मैंने देखा कि देवी अपने हाथ से मुझे इशारा कर रही हैं कि मैं अपना हाथ उनके हाथ में रखूं और मेरे ऐसा करने पर एक ठंडी सी ऊर्जा का अहसास मेरे हथेली के मद्य में हुआ। मुझे कल ऐसा भी महसूस हुआ कि किसी ने मेरे शरीर को एक दो बार हिलाया ……………….. नीरजा ।
राम राम गुरुजी। आपके मंगल आशीर्वाद से कल रात्रि भी साधना सुखद रूप से सम्पन्न हुई। गुरुजी पर कल रात मुझे मन्त्र करते बहुत नींद, बेहोशी जैसे हो रही थी ।एक बार तो ऐसा लग रहा था कि मेरे शरीर में एनर्जी ही नही है ।खासकर गर्दन के ऊपर का पूरा हिस्सा। एक और आश्यर्च की बात हुई कि मेरे गले में एक लाकेट रहता है जिसका धागा कल रात साधना के बाद से गायब है। लाकेट मेरे पास ही है ,परन्तु जिस धागे में वह था वह कहीं भी नही है। और साधना तक वह मेरे गले में ही था यह मुझे पता है। साधना के समय मुझे स्प्ष्ट कल आभास हुआ दो बार की कोई मेरे कमरे में आया है। बहुत करीब से। एक बार किसी ने मेरे कमरे का डोर खोला। उसके कपड़े का रंग पीले रंग का था और उसके बाद मन्त्र करते समय मुझे अपने आस पास एक छाया दिखी। मन्त्र जाप करते समय एक समय ऐसा भी लगा कि मुझे गौद में किसी ने उठाया हो । क्योंकि वही दृश्य मुझे बन्द आंखों से दिख रहा था और उसी समय मेरा पूरा शरीर जैसे हवा में हो ऐसा महसूस भी हो रहा था। और उसके बाद जैसे आपको धरती पर कोई वापस रख देता है वैसा भी लगा। हालांकि मैं पूरे मन्त्र के प्रभाव में थी उस समय । थोड़ी देर बाद मैंने देखा कि देवी अपने हाथ से मुझे इशारा कर रही हैं कि मैं अपना हाथ उनके हाथ में रखूं ।और मेरे ऐसा करने पर एक ठंडी सी ऊर्जा का अहसास मेरे हथेली के मद्य में हुआ। मुझे कल ऐसा भी महसूस हुआ कि किसी ने मेरे शरीर को एक दो बार हिलाया । मेरे हाथ की चोटी अंगुली भी ऐसा लग रहा था जैसे कोई पकड़ रहा हो। कल गुरुजी मन्त्र जाप के समय मैने आंतरिक रूप से प्रार्थना करि आपसे की मैं साधना सम्पन्न कर सकूं मुझे शक्ति दें। उसके बाद मुझे आप सफेद वस्त्रो में बहुत देर तक दिखाई देते रहे। फिर मुझे पूजा की चौकी पर गोल्डन रंग की चरण पादुका, रुद्राक्ष की माला और बहुत सारे श्री यंत्र रखे नजर आए जिनके आस पास छोटे छोटे गोल्डन रंग के नाग जैसे रखे हुए थे। वहां एक दीपक भी जल रहा था शायद क्योंकि बहुत प्रकाश दिख रहा था पास में। मुझे गोल्डन रंग के देवी के मन्त्र जैसे भी लिखे दिखे ।देवी कल विभिन्न रूपो में नजर आ रही थी । उन्होंने कल भी मेरे द्वारा दिये गए भोग को ,फूल माला को स्वीकार किया ,अपना वचन भी दिया। बल्कि कल पूरा दिन मेरे हर साधना के समय ही मुझे देवी अपना मुख दिखाती रहीं। कल हमारे घर के आस पास पूरा दिन भजन चले ,हर समय कभी गुलाब ,कभी मोगरे की महक आती रही। ढ़ोल की आवाज तो मुझे रह रहकर आ ही रही थी। रात में जब साधना के बाद उठी तो गुरुजी इतनी चिड़ियों की चहचहाट सुनाई दे रही थी जैसे मैं किसी पेड़ के पास हूँ और वहां अनगिनत चिड़िया बैठी हैं। मुझे बहुत जोर से एक बार किसी महिला की आवाज भी आई थी साधना के बीच। परन्तु क्या था वो ,याद नहीं। और ऐसा भी लग रहा था कि बहुत सारे लोग मेरे आस पास हैं जो बोल रहे हैं। साधना के अंत में शिवलिंग के श्रृंगार हुए बेहद सुंदर दर्शन भी हुए। मुझे अपने एक official वर्क में भी देवी ने कल दिन में सहायता भी वरदान करी । पूरी साधना को निर्विघ्नता प्रदान करने के लिए शिव गुरु ,शिवदूतो दिव्यांगना लोक और आपका कोटि कोटि आभार ।❤️❤️❤️❤️

साधना में कई बार दिव्य तेज सुगंध आती थी और हर क्षण किसी के साथ होने का अहसास होता रहा…… Shailendra,Ulhasnagar
07/07/2021 Ram Ram Guruji, aaj ki sadhana me kafi relax feel kar raha tha , sadhana me baithane ke pahle bahut sardi ho rahi thi aur tez chike aa rahi thi lag raha tha aaj mantra jap nahi ho sakega, fir Shiv Guru shivdooto. Aur guruji aapse sadhana nirvighn sampann karane ka aagrah kiya aur suruvat kiya thodi der me sare sharirik manshik rog gayab ho gaye Sadhana me kayi baar divya tez sugandh aati thi aur har chan kisike sath hone ka ahsas bana hua tha , kintu aankh kholne par khuch bhi nazar nahi aa raha tha, dinbhar divya urjao se ghira rahta hu Aapka koti koti dhanyawad guruji

साधना के दौरान माता लक्ष्मी के दर्शन हुए, माता के सिर पे मुकुट था, भगवान शिव गुरु के दर्शन हुए, बीच बीच में साधना कक्ष के बाहर से पायल की आवाज़ आ रही थी …………. आदित्य कुमार, ग्वालियर, मध्य प्रदेश
07/07/2021 रंभा अप्सरा साधना अनुभूति राम राम गुरुदेव शत शत प्रणाम 🌹🙏🙇🏻‍♂️🙏🙇🏻‍♂️🙏🌹 गुरुजी आपकी कृपा से आज की साधना बहुत अच्छे से संपन्न हुई, साधना के दौरान माता लक्ष्मी के दर्शन हुए, माता के सिर पे मुकुट था, भगवान शिव गुरु के दर्शन हुए, बीच बीच में साधना कक्ष के बाहर से पायल की आवाज़ आ रही थी,गुरुदेव सदैव आपकी कृपा आशीर्वाद बना रहे,आपका बहुत बहुत धन्यवाद।
🌹 शिव शरणं 🌹 🌹 गुरु शरणं 🌹

मन्त्र जाप के साथ कभी-कभी एसा लगता था,मन्त्र की आवाज बिगड़ गई है जैसे कोई इठलाता है आवाज को बिगाड़ कर बोलता है,थोड़ा अजीब सा ……………… आशीष तंवर,पुन्हाना, हरियाणा ।
07/07/21 रंभा अप्सरा साधना अनुभूति– राम राम आदरणीय श्री गुरुदेव 🥀🌹🌾💐🙏साधना निर्विघ्न संपन्न हुई।साधना में ज्यादतर चेतन ही रहा,नींद कम ही मह्सूस हुई।मन्त्र जाप के साथ कभी-कभी एसा लगता था,मन्त्र की आवाज बिगड़ गई है जैसे कोई इठलाता है आवाज को बिगाड़ कर बोलता है,थोड़ा अजीब सा। धन्यवाद आदरणीय श्री गुरुदेव।

देवी से हल्का सा जुड़ा महसूस हुआ………… Pawan Pandey
8 /7/ 2021 Ram Ram guruji subah 4:00 baje Sadhna karne baitha Devi se halka sa juda mahsus hua bich bich mein judaw mahsus hota Raha han margdarshan Karen guruji

गुरुदेव शरीर में बहुत खिचाओ हो रहा था ऊपर की तरफ बीच बीच में हिल रहा था ………… ममता पंडित ग्वालियर
राम राम गुरुजी कोटि कोटि प्रणाम🌹🙏🌹 रंभा अप्सरा साधना 7/7/21 साधना बहुत अच्छे से संपन्न हुआ ।गुरुदेव शरीर में बहुत खिचाओ हो रहा था ऊपर की तरफ बीच बीच में हिल रहा था , डांसिंग 😊 अनाहत चक्र कभी तेज गति हो जा रही थी ऐसे रुक रुक कर होते ही रहा।🌹
शिव शरणं,गुरु शरणं

मंत्र जाप कर रहा था मुझे ऐसे लग रहा था कि मेरे चेहरे पर कोई ब्लीचिंग कर रहा है और मेरे कमरे में देवी मां की पैरों की घूमने की आवाज आ रही थी …………… हरविंदर सिंह देहरादून
शिव गुरु को राम-राम गुरु जी को कोटि-कोटि प्रणाम अप्सरा साधना 7 जुलाई 2021 गुरुजी रात की अप्सरा साधना आनंद पूर्ण संपन्न हुई
शिव के दर्शन हुए वहां हिमालय पर्वत पर एक शिला पर बैठे हुए थे जब मैं मंत्र जाप कर रहा था मुझे ऐसे लग रहा था कि मेरे चेहरे पर कोई ब्लीचिंग कर रहा है और मेरे कमरे में देवी मां की पैरों की घूमने की आवाज आ रही थी और मेरे पैरों की तालियों से आग सी निकल रही थी
आपका बहुत-बहुत धन्यवाद

घुंघरू की आवाज बहुत जोर जोर सुनाई दे रही चूड़ियों की भी आवाज आ रही और हंसने की भी सुनाई दे गुरुदेव साधना बहुत अच्छे से संपन्न हो रही है ……………….. भोलानाथ दिल्ली
7 जुलाई 2021 अप्सरा साधना शिव गुरु को राम-राम गुरु जी राम-राम शिव शरणम गुरुदेव 7 जुलाई की साधना आनंदपुर और संपन्न हुई साधना करते हैं समय ऐसा लग रहा था कि जैसे आप हमारे पास में बैठ कर हमसे मंत्र जाप करा रहे हो ऐसा ही पूरी साधना मैं ऐसा ही महसूस हो रहा था अप्सरा रंभा जी साधना करते समय कई बार आई और साधना कक्ष में आकाश घूम रहे थे उनके पैरों की आवाज सुनाई दे रही थी पूरी साधना में ऐसे ही हो रहा था साधना संपन्न होने के बाद मैं लेट गया उसके बाद घुंघरू की आवाज बहुत जोर जोर सुनाई दे रही चूड़ियों की भी आवाज आ रही और हंसने की भी सुनाई दे गुरुदेव साधना बहुत अच्छे से संपन्न हो रही है आपका आशीर्वाद और मार्गदर्शक सदा प्राप्त होता रहे गुरुदेव आपका बहुत-बहुत प्रणाम गुरुदेव शिव शरणम गुरु नानक

डेढ़ घंटे साधना होने के बाद ऐसा महसूस हुआ कोई मुझे टच किया और मेरी हाथों की चूड़ियां को टच करके हटाया गया. …………… Ranita Halder kolkata
7/7/2021, 🙏 Pranam Ram Ram Guruji 🙏🌸 Aj ki Rambha Apsara Sadhana ki Divya Anubhav 🙏🌸
Aj ki Head line 💗💗 creator 💗💗 एक शिल्पी जैसे बहुत शालीनता से निपुणता से लगन के साथ एक चित्र को अंकन करते हे, यह वो एक मूर्ति प्रस्तर खंड को खोद के उसके एक-एक अंग को निपुणता से बनाते हैं…. मूर्ति को रूप प्रदान करते हैं.. अगर वह कई सौंदर्या की प्रतिमूर्ति नारी हो तो कहना क्या 💗💗💗😊😊. रंभा अप्सरा साधना में देवी की चित्र, मूर्ति मेरे अंदर ऐसे ही क्रिएट हो रहा है 😊साधना के पहले दिन ही मैं “R” अल्फाबेट देखी थी. इसके बाद नेक्स्ट डे पे “A” M”अल्फाबेट उसके अगले दिन इसी तरह B आर “h”अल्फाबेट अभी तक देख चुकी हु. पहले मैं मन ही मन सोच रही थी ऐसा अक्सर मुझे क्यों दिखाई पड़ रही है. पर आप यह पहेली…..RAMBH(A)..😊 सुलझा के मुझे बहुत ही खुशी फील हो रही है. और शरीर के अंग के हिसाब से मुझे फर्स्ट के नाभि और पेट की अंगको दरसन हुई हे. इसके बाद सुन्दर सी आंखें, उसके अगले दिन नासिका और आज के अनुभव पर देविका सुंदर चंपक की कली जैसे अंगुली और हाथ को दर्शन हुआ है.🙏 मन में देवी को बहुत पहले ही दर्शन हो चुकी थी पर यह सब दर्शन मेरी मन अनाहत से आज्ञा चक्र की बीच का सफर में से हे.😊 आज मुझे सिर्फ 3 दिन हुआ मैं मेरी भावना हिंदी में लिख कर भेज पाने की. यह हिम्मत मुझे रम्भा अप्सरा साधना के बजाय से और गुरु जी की आशीर्वाद से सक्षम हुआ. रंभा अप्सरा को बहुत-बहुत आभार और धन्यवाद ज्ञापन करती हु. और मेरे पीछे मुझको इस लेवल पर आने के लिए जो…. शिल्पी क्रिएटर… है वह हमारा, हम सबकी प्यारी गुरुजी. आज गुरु जी को सिर्फ मैं धन्यवाद नहीं कहूंगी. यह कहना बहुत ही कम होगा… गुरुजी को बहुत-बहुत आभार… हार्ट से अनंत कोटी प्रेम श्रद्धा भालबासा ज्ञापन करती हूं. 💗💗💗🙏🌸 अब आती हु आज की अनुभव पर…….. 🙏पहले से मुझे अनुभव थोड़ी कम होने लगी है. पर एक विसय नोटिस की….. अनुभव की क्लेरिटी पहले से थोड़ी ज्यादा स्वच्छ हुआ है. आज साधना शुरू होते ही देवी माता की शेर की दर्शन हुई. इसके बाद ब्रह्मा जी के दर्शन हुए. उसके चार हाथ में एक हाथ में वेद और माला पकड़ी हुई थी मुझे दर्शन हुई. मैं नमन किया. मुझे कुछ कह रहे थे जो मुझे सुनाई नहीं दे रहा था. मैं आज की सिद्धि के लिए आशीर्वाद की प्रार्थना की, और ब्रह्म ज्ञान प्राप्त होने की प्रार्थना की.आज एनर्जी मेरी मूलाधार से होते हुई एक खींचा अनुवाब मोनीपुर की तरफ जा रही थी. मणिपुर चक्र एक बार बिलिंग करें. और माता महालक्ष्मी और साथ में नारायण जी की एक साथ दर्शन हुआ. इसके बाद फिर कीसन जी को बांसुरी बजाते हुए पीछे उसकी सफ़ेद गायी थी दर्शन हुई. एक बार हल्की झटका लागी. स्वाधिष्ठान चक्र पर हल्की हल्की ऊर्जा लगातार प्रवेश कर रही थी. एक गुदगुदी टाइप फीलिंग हो रही थी. साधना के बीच में दो एक बार हल्की डर जैसी लागी और मन में उलझन भी पैदा हुई थी. पूरी साधना कालीन समय पर सुंदर प्राकृतिक दृश्य दिखाई दे रही थी. और बीच-बीच में रेड रोज दिखाई पड़ रही थी.आज सिंगल रोज़ देखे दे रही थी. डेढ़ घंटे साधना होने के बाद ऐसा महसूस हुआ कोई मुझे टच किया और मेरी हाथों की चूड़ियां को टच करके हटाया गया. साधना की बिल्कुल एंड उसी समय मेरी पीछे से चूड़ियों की आवाज एक पल के लिए सुनाई पड़ी.सरीर में एक सिहरन महसूस करि . थोड़ी दर ही लागे. आज मेरी बॉडी से बहुत ही गर्मी उर्जा निकल रही थी मैं महसूस कर पा रही थी. साधना एंड होते ही मुझे बहुत ही नींद आ गई. राम-राम प्रणाम गुरु जी कृपा बनाए रखें. 🙏🙏🙏🌸🌸